OYO didn’t file for chapter, ceo says it unfaithful | OYO हुई ‘दिवालिया’! सोशल मीडिया पर फैली खबर तो CEO ने बताया झूठ, मामला पहुंचा कोर्ट में


नई दिल्ली: OYO Chapter Situation: सोशल मीडिया पर आज OYO होटल्स को लेकर एक खबर खूब चली, खबर थी कि कंपनी ने खुद को बैंकरप्ट यानी दिवालिया घोषित करने की याचिका दाखिल की है. लेकिन कुछ समय बाद ही OYO की तरफ से सफाई भी आ गई कि कंपनी ने बैंकरप्सी फाइल नहीं की है. 

OYO के CEO ने दी सफाई

OYO के CEO रितेश अग्रवाल ने खुद इस खबर पर अपनी सफाई दी. उन्होंने लिखा कि एक PDF और टेक्स्ट मैसेज घूम रहा है जिसमें ये दावा किया जा रहा है कि OYO ने बैंकरप्सी फाइल की है. ये बिल्कुल झूठ और गलत है. एक दावेदार ने NCLT में याचिका देकर OYO की सब्सिडियरी से 16 लाख रुपये की मांग की थी. OYO ने इस रकम को दावेदार को दे दिया है. OYO ने इस बारे में NCLAT में भी याचिका दी है. OYO महामारी से उबर रहा है और हमारे बड़े मार्केट मुनाफे में काम कर रहे हैं. 

 

क्या था मामला 

दरअसल, हैदराबाद की OYO Group की सब्सिडयरी के खिलाफ Nationwide Firm Regulation Tribunal (NCLT) में 30 मार्च 2021 को एक दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने के लिए याचिका दाखिल की गई थी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक Conclave Infratech होटल जिसको Oyo Rooms मैनेज कर रहा था, इसके मालिक ने भुगतान में देरी के खिलाफ Nationwide Firm Regulation Tribunal का दरवाजा खटखटाया था. 

ये भी पढ़ें- RBI मॉनिटरी पॉलिसी में Fixed Deposit खाताधारकों के लिए अच्छी खबर, FD पर मिलता रहेगा ज्यादा ब्याज!

 

OYO ने 16 लाख चुकाए

OYO Accommodations and Properties Pvt Ltd (OHHPL) के क्रेडिटर्स को 15 अप्रैल 2021 तक क्लेम्स की जानकारी देने का आदेश दिया गया था. इस आदेश के बाद ही कंपनी की ओर से होटल मालिक को 16 लाख रुपये का भुगतान किया गया. 

NCLT के फैसले से हैरान: OYO

OYO के प्रवक्ता ने Monetary Specific से इस पूरे विवाद पर कहा कि वो हैरत में है कि NCLT ने OHHPL के खिलाफ, जो कि OYO की सब्सिडियरी है 16 लाख रुपये के Contractual Dispute को मंजूर कर रिया, जो कि उसकी सब्सिडियरी के साथ था भी नहीं. OYO ने NCLT के इस आदेश को चुनौती भी दी है. प्रवक्ता ने कहा कि मामला अभी कोर्ट में है इसलिए इस पर ज्यादा कुछ नहीं बोल सकते. 

OYO को Softbank और Airbnb जैसी कंपनियों ने निवेश किया हुआ है. OYO का कारोबार पूरी दुनिया में फैला हुआ है. एशिया, यूरोप और नॉर्थ अमेरिका में OYO की अच्छी पकड़ है. 

ये भी पढ़ें- RTGS और NEFT के लिए बैंक की जरूरत नहीं! मोबाइल वॉलेट बन जाएगा ATM, जानिए RBI का नया कदम

LIVE TV





Source link