House Mortgage Curiosity Charge 2021: RBI could preserve establishment on repo charges, rising covid 19 circumstances may very well be seen in coverage | House Mortgage की ब्याज दरों में नहीं होगी कटौती! RBI की पॉलिसी पर आज से बैठक, कोरोना ने फिर बढ़ाई चिंता


मुंबई: RBI House Mortgage Curiosity Charge 2021: होम लोन की ब्याज दरें घटेंगी या बढ़ेंगी, इसे लेकर आज The Financial Coverage Committee (MPC) की बैठक शुरू हो रही है. 7 अप्रैल यानी बुधवार को ब्याज दरों पर रिजर्व बैंक (RBI) अपना फैसला सुनाएगा. हालांकि जिस तरह से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, और केंद्र सरकार की ओर से रीटेल महंगाई दर को four परसेंट पर बरकार रखने का फैसला किया गया है, उससे तो यही लगता है कि RBI ब्याज दरों में ज्यादा कुछ करने बदलाव नहीं करेगा. 

आज से ब्याज दरों पर RBI की बैठक

जानकारों को मानना है कि RBI की ब्याज दरें तय करने वाली मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी (MPC) अपना रुख भी ‘Accommodative’ बरकरार रख सकती है. जानकारों का मानना है कि रीटेल महंगाई दर को four परसेंट पर सीमित रखने के अपने मुख्य लक्ष्य का बलिदान किए बिना ग्रोथ को आगे बढ़ाने के लिए रिजर्व बैंक अभी सही मौके का इंतजार करेगा. 

ये भी पढ़ें- 50 करोड़ से ज्यादा Facebook खातों की जानकारी हैकर्स की साइट पर मौजूद, इस रिपोर्ट में दावा

आर्थिक रिकवरी की रफ्तार सुस्त: Edelweiss Analysis

इस वक्त पॉलिसी रेपो रेट four परसेंट है, जबकि रिवर्स रेपो रेट 3.35 परसेंट है. आने वाली पॉलिसी को लेकर Edelweiss Analysis का कहना है कि इकोनॉमिक रिकवरी एकसमानता नहीं है और अच्छी वापसी के बाद निचले स्तरों से सुधार की रफ्तार भी घटी है. कोरोना के एक बार फिर तेजी से बढ़ते मामलों ने नई चुनौती खड़ी कर दी है. Edelweiss Analysis का कहना है कि इस पॉलिसी में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं होगा और रुख भी ‘Accommodative’ रहेगा. 

‘रेपो रेट में बदलाव की उम्मीद नहीं’

Housing.Com, Makaan.Com और Proptiger.Com के ग्रुप CEO ध्रुव अग्रवाल का कहना है कि RBI के सामने कोरोना के बढ़ते मामलों से चुनौतियां बढ़ी हैं, जो कि इकोनॉमिक रिकवरी पर ब्रेक लगा सकता है और महंगाई दर भी ऊपर जा सकती है. इसलिए RBI रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं करेगा. उन्होंने कहा कि होम लोन की दरों में ऐतिहासिक गिरावट है, आगे भी कटौती हुई तो ये इंडस्ट्री और इकोनॉमी के लिए मददगार होगी. 

‘आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने पर फोकस रहेगा’ 

ज़ी बिजनेस के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी के मुताबिक ‘ब्याज दरों में कोई खास बदलाव की उम्मीद नहीं है, रिजर्व बैंक के लिए महंगाई काबू में ही मानकर चलें. महगांई दर थोड़ी कम होती दिखी है तो रिजर्व बैंक का कॉन्फिडेंस बढ़ा है. ब्याज दरें बढ़ने की आशंका दूर दूर तक नहीं हैं, घटने की भी संभावना नहीं है. रिजर्व बैंक की पिछली बार जो कमेंट्री रही है, वो ही करीब करीब बार भी रहने की उम्मीद है. सिर्फ कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आर्थिक गतिविधियों पर पर रिजर्व बैंक की नजर हो सकती है.’ 

पिछले महीने केंद्र सरकार ने रिजर्व बैंक से four परसेंट रीटेल महंगाई दर (+/- 2 परसेंट) को ही बनाए रखने के लिए कहा था. ये लक्ष्य अगले 5 साल यानी मार्च 2026 के लिए तय किया गया है. सरकार ने 2016 में रिजर्व बैंक को four परसेंट महंगाई दर मार्च 2021 तक मेनटेन करने के लिए कहा था. 5 फरवरी को MPC ने बढ़ती महंगाई को देखते हुए रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया था.  

ये भी पढ़ें- SBI YONO ऐप से शॉपिंग पर बंपर ऑफर्स, 50 परसेंट तक मिल सकता है डिस्काउंट, Super Saving Days लॉन्च

VIDEO





Source link